Dil Se Re lyrics

Dil Se Re lyrics (A. R. Rahman)

Presenting the Dil se re lyrics. This is an also one of the best song ever. Dil se song was sung by the great singer A. R. Rahman.

This lyrics of Dil Se Re song available in Hindi and English both versions. So just understand enjoy all single word.

Song: Dil Se Re
Lyricist: Gulzar
Singer: A. R. Rahman, Harmony- Anuradha & Harmony- Anupama
Movie: Dil Se
Music: A. R. Rahman

Aooouuu…
Ek suraj nikla tha
Kuch paare pighla tha
Ek aandhi aayi the
Jab dil se aah nikle thi
Dil se re…

Dil se re…(3)
Dil toh aankhir dil hain na
Mithi se muskil hain na
Piya piya piya piya Na piya
Jiya jiya jiya Na jiya
Dil se re…(2)

Hmm… Do pattey patjad ke
Pedon se utrey the
Pedon ke shankhon se
Utrey the
Phir utne mausam guzre
Vo patte do bechhare
Phir ugne ki chaahat mein
Sehearoon se guzre
Vo patty dil dil dil thay
Vo dil thay dil dil dil thay
(Dil hain toh phir dard hoga
Dard hain toh dil bhi higa
Mausam guzarte rehete hain)…(2)
Dil se re

Dil toh aankhir dil hain na
Meethi se muskil hain na
Piya piya piya piya piya Na piya
Jiya jiya jiya Na jiya
Dil se re…

Auhhhh
Bandhan Hai Rishton Mein
Kaaton Ki Taarein Hain
Patthar Ke Darwaaze Deewarein
Bele Phir Bhi Ugti Hain
Aur Guchhe Bhi Khilte Hain
Aur Chalte Hain Afsane
Kirdaar Bhi Milte Hain
Vo Rishtey Dil Dil Dil Thay
Vo Dil The Dil Dil Dil Thay
Gum Dil Ke Pak Chulbule Hain
Paani Ke Ye Bulbule Hain
Bujte Hain Bante Rehte Hain

Gum Dil Ke Pak Chulbule Hain
Paani Ke Ye Bulbule Hain
Bujte Hain Bante Rehte Hain
Dil Se Dil Se Dil Se Dil Se
Dil Se Re
Dil Se Re…(3

Also Read: Kajra Mohabbat Wala song lyrics

Dil se re lyrics in hindi

गीत: दिल से रे
गीतकार: गुलज़ार
गायक: ए। आर। रहमान, सद्भाव- अनुराधा और सद्भाव- अनुपमा
फ़िल्म: दिल से
संगीत: ए आर रहमान

इक सूरज निकला था
कुछ तारा पिघला था
इक आँधी आयी थी
जब दिल से आह निकली थी
दिल से रे…(2)

दिल से रे…(3)
दिल तो आखिर दिल है ना,
मीठी सी मुश्किल है ना
पिया पिया,
पिया पिया पिया ना पिया
जिया जिया, जिया ना जिया
दिल से रे…(2)

दो पत्ते पतझड़ के
पेड़ों से उतरे थे
पेड़ों की शाखों से उतरे थे

फिर कितने मौसम गुज़रे,
वो पत्ते दो बेचारे
फिर उगने की चाहत में,
वो सहराओं से गुज़रे
वो पत्ते दिल-दिल-दिल थे,
वो दिल थे, दिल-दिल थे

दिल है तो फिर दर्द होगा,
दर्द है तो दिल भी होगा
मौसम गुज़रते रहते हैं
दिल है तो फिर दर्द होगा,
दर्द है तो दिल भी होगा
मौसम गुज़रते रहते हैं

दिल से, दिल से…(2)

दिल तो आखिर दिल है ना,
मीठी सी मुश्किल है ना
पिया पिया,
पिया पिया पिया ना पिया
दिल से रे…

बन्धन है रिश्तों में,
काँटों की तारें हैं
पत्थर के दरवाज़े, दीवारें
बेलें फिर भी उगती हैं
और गुँचे भी खिलते हैं
और चलते हैं अफ़साने,
किरदार भी मिलते हैं
वो रिश्ते दिल-दिल-दिल थे,
वो दिल थे, दिल-दिल थे

(ग़म दिल के बस चुलबुले हैं,
पानी के ये बुलबुले हैं
बुझते ही बनते रहते हैं) – 2

दिल से, दिल से, दिल से,
दिल से रे

दिल से रे दिल से रे
दिल से रे दिल से रे

दिल तो आखिर दिल है ना,
मीठी सी मुश्किल है ना
पिया पिया,
दिल तो आखिर दिल है ना,
मीठी सी मुश्किल है ना
पिया पिया,
पिया ना पिया
जिया जिया, जिया ना जिया

दिल से रे…
दिल से रे

Also Read: Ranjish Hi Sahi Lyrics

I hope you like Dil Se Re Lyrics and if you found any mistakes in this lyrics please know us on the comment box.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *